Sad Shayari raat ka andhera hai

अपने प्यार की आने की आस लगाये एक आशिक की पुकार है उस रात के अंधेरे में जब अक्सर वो मौका मिलने पे मिला करते थे कुछ पंक्तियाँ लिखी है आशा करता हु आपको पसंद आएगी

Sad Shayari raat ka andhera hai-

sad shayari-रात का अँधेरा है

Sad Shayari raat ka andhera hai
Sad Shayari raat ka andhera hai

raat ka andhera hai

रात का अँधेरा है आँखे चार कर लेते है
तुम इजाजत दो अगर थोडा प्यार कर लेते है
ये रात न बित जाए यूं मनाने में
अब छोड़ दो ये जिद चले आओ बाते चार कर लेते है

किस्मत से मिलता है मौका प्यार करने के लिए
ये वक्त है कीमती नही है लड़ने के लिए
रुठने मनाने में जो वक्त निकल जायेगा
फिर मुस्किल से आयेगी वो रात हमें मिलाने के लिए

आ जाओ जांन अब सताना छोड़ दो
यूं दूर होकर तडपाना छोड़ दो
ये आँखे हो गयी है प्यासी तेरी राह तकते तकते
बस एक बार आ जाओ मुझे रुलाना छोड़ दो

हर रोज तेरी कब्र पर आकर तुझे याद करता हु
जो राते बितायी तेरे साथ वो राते याद करता हु
सोचता हु कभी तो सुनोगे तुम मेरी आवाज
इसलिए हर रात तेरी कब्र में आकर तेरे आने की फरियाद करता हु

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *