bewafa shayari beraham us bewafa ne mera esa haal kar diya

bewafa shayari beraham us bewafa ne mera esa haal kar diya

bewafa shayari beraham us bewafa ne mera esa haal kar diya

bewafa shayariबेरहम उस बेवफा ने मेरा एसा हाल कर दिया

bewafa shayari beraham us bewafa ne mera esa haal kar diya
bewafa shayari beraham us bewafa ne mera esa haal kar diya

beraham us bewafa ne mera esa haal kar diya

 

 बेरहम उस बेवफा ने मेरा एसा हाल कर दिया
हमने पी पी के अपना बुरा हाल कर दिया
अब ना दिन का ख्याल ना रात का पता रहता है
बेवफाई का मारा आसिक हर वक्त अब नसे में रहता है

पिने का सौक हर किसी को नही होता वक्त उसे शराबी बना देता है
बेवफाई में जीने वाले आसिक को नसे में जीना सिखा देता है
नसे में जीने वाले व्यक्ति को शराब बोखला कर जाती है
एक बेवफा की तरह शराब भी अंदर से खोखला कर जाती है

बेवफाई का मारा आसिक आखिर क्या करे

कब तक किसी बेवफा के लिए घुट घुट के मरे
किसी किसी को पिने का सहारा रासआता है
पि पीकर ही वो हर बेवफ़ाई का गम भूलता है