bewafa shayari dil use ab tak na bhula saka

bewafa shayari dil use ab tak na bhula saka

bewafa shayari dil use ab tak na bhula saka

 

bewafa shayariदिल उसे अब तक ना भुला सका

bewafa shayari dil use ab tak na bhula saka
bewafa shayari dil use ab tak na bhula saka

 

dil use ab tak na bhula saka

एक उलझन में उलझ गयी है जिन्दगी फिर भी जिए जा रहे है
याद कर कर के रोते है उसे उन आँसुओ को खुद ही पिए जा रहें है
उस बेवफा को कुछ फर्क ना पड़ा जो हमसे दूर जा चूका
उसने तो भुला दिया हमे कब का पर ये दिल ही उसे अब तक ना भुला सका

बेवफाई करने वाला कहा कभी रोता है
उसकी आदत तो होती है दिल तोड़ने की वो कहाँ कुछ खोता है
पर किसी की बेवफाई से हम अपना सब कुछ खो देते है
जब भी आती है उस बेवफा की याद अब भी चुपके से रो लेते है