bewafa shayari gairo ke saath ja rahe ho

bewafa shayari gairo ke saath ja rahe ho

bewafa shayari gairo ke saath ja rahe ho 

 

bewafa shayari-और के साथ जा रहे हो

bewafa shayari gairo ke saath ja rahe ho
bewafa shayari gairo ke saath ja rahe ho

gairo ke saath ja rahe ho

हमे छोड़  किसी और के साथ जा रहे हो
ना जाने क्यों हमे तुम यूं आजमां रहे हो
जलते है हम किसी और के साथ देख के तुझे
ये तेरी चाहत कही पागल न कर दे मुझे 

पागलो की तरह इधर उधर फिर रहें
यादो से तेरी हम चारो और से घिर रहे है
एक पल भी तेरे बिना जीना आसान नही होता
 किस्मत में होता साथ तेरा यू तुझे नही खोता

भुलाना तुझे आसान नही हो रहा है
ये पागल दिल तुजे याद करके रो रहा है 
जो थी मिलने की आस वो टूट गयी
जो थी कभी अपनी आज परायी हो