dard bhari shayari dard hame hota tha

dard bhari shayari dard hame hota tha

dard bhari shayari dard hame hota tha

 

dard bhari shayari-दर्द हमे होता था

dard bhari shayari dard hame hota tha
dard bhari shayari dard hame hota tha
dard bhari shayari dard hame hota hai

तेरे अश्कों से बहते थे आसूं दर्द हमे होता था
तुझे देख के रोता ये पागल दिल भी रोता था
दिल करता था उस पल गले से लगा लू तुम्हे
पर मजबूरी ये थी हमारी तेरे पास भी ना सके हम

अक्सर प्यार में ना जाने एसा क्यों होता है
प्यार को देख के रोता दिल हमारा भी रोता है
तकलीफ होती है तब जब हम उसके पास जा नही सकते
बन्दिसे होती है इतनी उसे अपना बना नही सकते

तडप जाते है रोता देख दूर से ही उसे
पागल हो जाते हम भी रोता देख उसे
देख उसे रोता गले से लगा लेते एक अलग बात होती
अगर इतना हक जो हमे मिल गया होता तो अलग बात होती