hindi shayari zindagi ki haqeeqat 2020

hindi shayari zindagi ki haqeeqat

hindi shayari-जिन्दगी की हकीकत

hindi shayari zindagi ki haqeeqat
hindi shayari zindagi ki haqeeqat

zindagi ki haqeeqat

 

हम अक्सर जिन्दगी की हकीकत को भूल जाते है
अपनी जिन्दगी में न जाने कितने गुनाह कर जाते है
हमें उन गुनाहों की सजा देखो कुदरत ने कैसे दिया
हमे एक कातिल की तरह अपने ही घरो में कैद कर दिया

क्या हमें ये सबक सिखाना भी जरूरी था
फैला के वायरस हम लोगो को मौत का एहसास करना भी जरूरी था
हो सकता है के अभी दुनियाँ का अंत ना हो
पर दिखा के ये मौत का मंजर क्या हमें डराना भी जरूरी था

ये इन्सान की गलती है या कुदरत की कोई माया है
या है कुदरत का कहर ये भी समझ में न आया है
हर कोई इंसानियत को समझ गया है
देख के खड़ी मौत को आगे अपने आप ही उलझ गया है