Love Shayari usaka mud mud ke peechhe dekhana

Love Shayari usaka mud mud ke peechhe dekhana

Love Shayari usaka mud mud ke peechhe dekhana

 

Love Shayariउसका मुड़ मुड़ के पीछे देखना

Love Shayari usaka mud mud ke peechhe dekhana
Love Shayari usaka mud mud ke peechhe dekhana

usaka mudke peechhe dekhana

 उसका मुड़ मुड़ के पीछे देखना याद बहुत आता है
सुनी गली में जाकर उसकी याद  बहुत सताता है
उस गली में अब भी हम उसकी एक झलक पाने को तरसते है
दिख जायेगा एक झलक कभी ना कभी रोज अब भी उस गली से गुजरते है

छोड़ के जा चूका जो उसकी आस अब भी दिल में लगा रख्खे है
मिल जायेगा हमे कभी ना कभी ये आस दिल में जगा रख्खे है
न जाने कब से दिल को अपने झूठा दिलासा देते है
मिल जायेगा कभी ना कभी ये आसा देते ह

कभी फिर नजर नही आते वो जो चले जाते है
चाह कर भी हम उसे कहाँ भुला पाते है
न जाने क्यों फिर उनकी आहट का इन्तजार रहता है
फिर देखेगा मुडके वो कभी दिल ये हमसे कहता है

 दूर हो जाते है जिन्दगी से फिर कभी वापस नही आते
न जाने जानकर भी हम कभी क्यों समझ नही पाते
बिछड़ जाता है जो फिर वापस नही आता
वो सिर्फ यादो में हमारे याद बनके रह जाता