love shayari uska masoom chehra

love shayari uska masoom chehra

love shayari uska masoom chehra

love shayari-उसका मासूम चेहरा

 love shayari uska masoom chehra
love shayari uska masoom chehra

uska masoom chehra

उसका मासूम चेहरा दिल में इस कदर बस गया
पता न चला वो दिल में कब घर कर गया
उसके नजरो का तीर दिल के आर पर हो गया
न जाने कब मुझे उनसे प्यार हो गया

अब उससे मिलने को बेकरार रहने लगे
उसकी तारीफ अपनी दोस्तों से कहने लगे
उसके मिलने की खुशी दिल में थी जो क्या बताये
लग रहा था डर कही खुशी से मर न जाये

अब हर पल दिल उसे मिलने को बेकरार रहने लगा
कब मिलेगा साथ उसका ये कहने लगा
पर जो भी हो आगे प्यार उसका बड़ा प्यारा था
वो अब जैसा भी था दुनियाँ में मेरे लिए सबसे न्यारा था