paresaan rahane lage Dard Bhari Shayari

paresaan rahane lage Dard Bhari Shayari

paresaan rahane lage Dard Bhari Shayari

Dard Bhari Shayari – परेसान रहने लगे

 

paresaan rahane lage Dard Bhari Shayari
paresaan rahane lage Dard Bhari Shayari

paresaan rahane lage

अब तो हम पहले से जादा परेसान रहने लगे
उम्मीद तो थी कुछ अच्छा होगा आगे जो हुवा हैरान रहने लगे
प्यार से अपने करते थे उम्मीद पर वो न मिला
आया जो जिन्दगी में उसने भी रुलाया अब क्या होगा आगे ये किस्मत से कहने लगे

ab to ham pahale se jaada paresaan rahane lage
ummeed to thee kuchh achcha hoga aage jo huva hairaan rahane lage
pyaar se apane karate the ummeed par vo na mila
aaya jo jindagee mein usane bhee rulaaya ab kya hoga aage ye kismat se kahane lage

सोचते है हम क्या क्या पाते है
ख़्वाब हमारे न जाने क्यों अधूरे ही रह जाते है
जो किस्मत में न था भले उसे पा न सके 
पर जो मिलता है किस्मत से न जाने क्यों वो भी रुलाते है

sochate hai ham kya kya paate hai
khvaab hamaare na jaane kyon adhoore hee rah jaate hai
jo kismat mein na tha bhale use pa na sake
par jo milata hai kismat se na jaane kyon vo bhee rulaate hai

 

अक्सर जिन्दगी ने हमें बार बार रुलाया है
प्यार के लिए तो रोये हमेशा अब किसी और ने भी रुलाया है
किसी और से दिल नही मिलता बार बार टकरार हो ही जाती है
जब करता नही है वो प्रवाह हमारी फिर प्यार की याद ने सताया है

aksar jindagee ne hamen baar baar rulaaya hai
pyaar ke lie to roye hamesha ab kisee aur ne bhee rulaaya hai
kisee aur se dil nahee milata baar baar takaraar ho hee jaatee hai
jab karata nahee hai vo pravaah hamaaree phir pyaar kee yaad ne sataaya hai

 

इंसान की जिन्दगी पाना किसी संघर्स से कम नही होता
वो आता है जिन्दगी में रोते हुवे और जिन्दगी भर रोता ही रह जाता

 

insaan kee jindagee paana kisee sanghars se kam nahee hota
vo aata hai jindagee mein rote huve aur jindagee bhar rota hee rah jaata